Breaking News
Home / Uncategorized / स्वच्छ भारत मिशन स्वच्छता सर्वेक्षण 2019 की कार्यशाला संपन्न 

स्वच्छ भारत मिशन स्वच्छता सर्वेक्षण 2019 की कार्यशाला संपन्न 


देवास। स्वच्छ भारत मिशन अंतर्गत स्वच्छता सर्वेक्षण का कार्य 4 जनवरी 2019 से प्रारंभ हो रहा है। इस सर्वेक्षण में नगर निगम द्वारा शहर की स्वच्छता हेतु किए गए प्रयासों, कार्यो पर एक कार्यशाला स्थानीय मल्हार स्मृति मंदिर भवन में संपन्न हुई। जिसमें शहर के मीडिया जगत के पत्रकारजनों, होटल व्यवसायियों एवं चिकित्सक उपस्थित रहे। आयुक्त ने उन्हें सम्बोधित करते हुए कहा कि हमें शहर की स्वच्छता में जन सहभागिता निभाना है। उन्होंने होम कम्पोस्टिंग के साथ ही नगर निगम के शहर में स्वच्छता हेतु किए जा रहे कार्यो को पावर प्रजेंटेंशन के माध्यम से अवगत कराया। कार्यशाला में सेवा स्तर प्रगति, प्रसंस्करण, संवहनीय स्वच्छता, आईईसी एवं व्यवहार परिवर्तन देवास शहर में थ्री स्टार रेटिंग हेतु 12 बिंदुओं में घर घर से कचरा संग्रहण, स्त्रोत पृथकीकरण, सार्वजनिक, व्यवसायिक एवं आवासी क्षेत्रों में झाडू एवं सफाई(कोई भी गंदगी दिखाई ना दे), कूडेदान, कचरा पेटी एवं सामग्री प्रतिपूर्ति सुविधा, ठोस अपशिष्ट उत्पादकों द्वारा अनुपालन, उपभोक्ता शुल्क, जुर्माना, स्थलीय अर्थदण्ड एवं प्लास्टिक के उपयोग पर प्रतिबंध को प्रभावशील करना, कचरे का वैज्ञानिक निष्पादन, निपटान एवं निर्माण एवं विध्वंस कचरा प्रबंधन, नागरिक शिकायत एवं प्रतिपुष्टि व्यवस्था, अघोषित कचरा भंडारों, ढलाव स्थल का निवारण तथा खंतियों का वैज्ञानिक निपटान, बरसाती नाले, नाली एवं नदी, तालाब, झील, जलाशय आदि की साफ सफाई, थ्रीस्टार पद्धति के परिपालन में निरंतर कचरे के उत्पादन में कमी, दृष्टव शहरी सौंदर्यीकरण को शामिल किया गया है। 

स्वच्छ सर्वेक्षण 2019 में सतत विकास और जनभागीदारी पर जोर, खुले में शौच से मुक्ति का दर्जा हासिल करने की प्रक्रिया को जारी रखने तथा व्यवहारिक बदलाव सुनिश्चित करने के लिए ओडीएफ प्लस और ओडीएफ प्लस प्लस को शामिल किया गया है। शहरों को स्थाई रूप से कचरा मुक्त बनाने के लिए स्टार रेटिंग पर जोर, शहरों को योजनाबद्ध प्रबंधन और विकास के माध्यम से लोगों का जीवन स्तर सुधारने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। पूरे देश में 4 जनवरी से 31 जनवरी के बीच सभी शहरों में स्वच्छ सर्वेक्षण करवाया जाएगा। इस सर्वेक्षण का मुख्य उद्देश्य शहरों को कचरा और खुले में शौच से मुक्त कराने के प्रयास में व्यापक स्तर पर जनभागीदारी सुनिश्चित करना तथा समाज के सभी वर्ग के लोगों के लिए शहरों को जीने लायक बेहतर बनाने के प्रति जागरूकता पैदा करना है। सर्वेक्षण के जरिये लोगों को शहरों में साफ सफाई के लिए किए जा रहे कार्यो की विश्वसनीय ओर प्रमाणित जानकारी उपलब्ध कराने की भी कोशिश होगी। ऑनलाईन के माध्यम से डिजिटल सर्वे, सर्वेक्षण के लिए डाटा संकलन का काम चार प्रमुख स्त्रोतों से किया जाएगा जिनमें सेवा स्तर पर हुई प्रगति, प्रत्यक्ष निगरानी, लोगों से प्राप्त फीडबेक और प्रमाणन शामिल है। 

About Rajesh Malviya

Reporter since last 25 years..

Check Also

आद्यशक्ति ने सकल ब्रह्मांड की रचना की, जिसका नाम राधा है और उसका आकार कृष्ण है..सुश्री मुक्कामणी

भागवत कथा के समापन पर पूर्णाहुति के साथ भंडारे का आयोजन। कांटाफोड़ (पवन उपाध्याय)। ब्रह्मांड …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered By Indic IME
error: Content is protected !!